कृषि/विज्ञान/टेक्नोलॉजी
Trending

NASA:धरती के पास से गुजर गया इतना बड़ा एस्टेरॉयड, किसी को भनक तक नहीं लगी

NASA ने किया क्षुद्रग्रह के गुजरने का खुलासा

वॉशिंगटन: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA ने खुलासा किया है कि शुक्रवार को पृथ्वी के बेहद नजदीक से एक एस्टेरॉयड गुजरा। 2023 RQ6 नाम का यह एस्टेरॉयड किसी हवाई जहाज जितना बड़ा था। NASA के सेंटर फॉर नियर-अर्थ ऑब्जेक्ट स्टडीज (CNEOS) ने बताया कि एस्टेरॉयड 2023 RQ6 बेहद गुपचुप तरीके से पृथ्वी के नजदीक से गुजरा है। पृथ्वी के करीब से गुजरते समय इस एस्टेरॉयड की दूरी सिर्फ 6.4 मिलियन किलोमीटर थी। हालांकि यह दूरी बहुत अधिक लग सकती है, लेकिन खगोलीय दृष्टि से यह कम है। नासा ने 2023 RQ6 एस्टेरॉयड की गति 33,912 किलोमीटर प्रति घंटा बताई है।

https://thenewsonn.com/has-this-emergency-alert-come-on-your-mobile-also-know-the-whole-matter/

विमान के बराबर थी एस्टेरॉयड की लंबाई

नासा ने एस्टेरॉयड 2023 RQ6 को संभावित खतरनाक वस्तु के रूप में वर्गीकृत नहीं किया है। वैज्ञानिकों का मानना है कि यह एस्टेरॉयड भविष्य में फिर से पृथ्वी के नजदीक आ सकता है। हालांकि, इसके पृथ्वी से टकराने की संभावना लगभग ना के बराबर है। नासा ने कहा कि विमान के आकार का होने के बावजूद यह एस्टेरॉयड इतना बड़ा नहीं है। एस्टेरॉयड 2023 RQ6 के अलावा, एस्टेरॉयड 2023 SJ इसी महीने 21 सितंबर को पृथ्वी के सबसे करीब आया था। इसकी चौड़ाई 52 फीट से 118 फीट के बीच है।

अपोलो ग्रुप से संबंधित था यह ऐस्टेरॉयड

एस्टेरॉयड 2023 RQ6 पृथ्वी के नजदीक मौजूद 2023 RQ6 के अपोलो ग्रुप से संबंधित था। इस ग्रुप का नाम विशाल 1862 अपोलो एस्टेरॉयड के नाम पर रखा गया है। इसकी खोज 1930 के दशक में जर्मन खगोलशास्त्री केरल रेनमुथ ने की थी। इस एस्टेरॉयड समूह के केंद्र बिंदु में मौजूद चट्टान पृथ्वी से भी बड़ी है। मंगल और बृहस्पति के बीच एस्टेरॉयड बेल्ट में पाए जाने वाले अधिकांश एस्टेरॉयड को जमीन और अंतरिक्ष में मौजूद अडवांस टेलिस्कोप की मदद से देखा जा सकता है। हालांकि, नासा ने हाल में ही सूर्य की चमक के पीछे छिपे तीन एस्टेरॉयड की पहचान की है, जिन्हें पहले कभी भी नहीं देखा गया है।

ज्यादा खबरें पढ़ने के लिए टि्वटर पर हमें फॉलो करें https://x.com/thnewsonn/status/1705998149347852715?s=20

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
×

Powered by WhatsApp Chat

×